Breaking

Monday, 25 February 2019

चींटी रानी पर कविताएँ | Poem on Ant in Hindi

ये प्रकृति ही हमारी सबसे बड़ी शिक्षक है। हम चारों ओर से प्रकृति से घिरे हुए, अगर कहे तो हम प्रकृति के ही अंश है। ये प्रकृति हमारी हमारी माँ के समान है। जिस प्रकार हमारी माँ हमें सब कुछ सिखाती है, उसी प्रकार ये प्रकृति भी हमें जीवन के बारें में सिखाने की कोशिश करती है।
इस प्रकृति में रहने वाले हर एक जीव-जंतु, पेड़-पौधे हमें जीवन के बारें में सीख देते है, इन्हीं जीव और जंतुओं में एक छोटी सी जीव 'चींटी' है जो देखने में भले ही छोटी हो, लेकिन जीवन में मेहनत और साहस का सबसे बड़ा पाठ पढ़ाती है। हमने अपनी कविताओं के माध्यम से इस छोटे से जीव के अदम्य साहस का वर्णन करना चाहा है। Poem on Ant in Hindi हम आपके समक्ष शेयर करते है।

चींटी रानी पर कविताएँ | Poem on Ant in Hindi


चींटी रानी पर कविता, Hindi Poem on Ant, चींटी पर कविता, chiti par kavita, चींटी पर कविताएँ
Poem on Ant in Hindi

Poem on Ant in Hindi | चींटी पर कविता


चींटी रानी

गिर कर उठती, आगे बढ़ती,
हर पल अग्रसर रहती चींटी।

लघु से इस जीवन में,
न जाने कितने सपने बुनती चींटी।

एकता में, समता में,
एक दूजे संग,
दुर्गम पथ पर भी चलती रहती चींटी।

सिखलाती सबको तू,
कि कठिन परिश्रम तेरा व्रत है,
यही तो जीवन का अमृत है।

गिर कर उठती, आगे बढ़ती,
हर पल अग्रसर रहती चींटी।

Written by- Nidhi Agarwal

Poem on Ant in Hindi | चींटी पर कविताएँ


Poem on Ant in Hindi, Chiti Par Kavita, Chiti Raani Kavita, चींटी पर कविताएँ, Chiti Par Kavita
Poem on Ant in Hindi

मैं चींटी हूँ

नन्ही हूँ, पर थकती नही,
ठहरती हूँ, पर रुकती नही,
मैं 'चींटी' हूँ।

रास्ते दुर्गम हो,
या कंटक भरे।
चलती हूँ कतारों में,
कभी मैं पथ भटकती नही।

नन्ही हूँ, पर थकती नही,
ठहरती हूँ, पर रुकती नही,
मैं 'चींटी' हूँ।

शोक नही है,
इस लघु जीवन का।
पल-पल में,
जीवन जीती हूँ।

नन्ही हूँ, पर थकती नही,
ठहरती हूँ, पर रुकती नही,
मैं 'चींटी' हूँ।

सफल लघु,
जीवन मेरा हो।
कठिन परिश्रम,
मैं करती हूँ।

नन्ही हूँ, पर थकती नही,
ठहरती हूँ, पर रुकती नही,
मैं 'चींटी' हूँ।
Written by- Nidhi Agarwal

Hindi Poem on Ant | Chiti Par Kavita in Hindi


परिश्रमी चींटी

चींटी बोली मैं छोटी हूँ,
पर बड़ा है मेरा काम।
नही कभी मैं थकती हूँ,
कभी नही करती मैं आराम।

गिरती और संभलती हूँ,
और मैं आगे बढ़ती हूँ।
लक्ष्य कठिन या छोटा हो,
पूरा उसको करती हूँ।

आने वाले कल के लिए,
कठिन परिश्रम करती हूँ।
जीवन सफल मेरा हो,
मेहनत से न मैं डरती हूँ।

जीवन छोटा है तो क्या हुआ,
सपने बड़े बुनती हूँ।
इस छोटे से जीवन में ही,
सफलता के मोती चुनती हूँ।
Written By- Nidhi Agarwal

नन्हीं सी जीव चींटी हमें अपने जीवन में बहुत कुछ सिखा देती है। अपने कठिन से जीवन से, हम सबको सरलता पूर्वक कर्म करना समझा देती है। जिस प्रकार से वह अपने से बड़ी चीजों को सरलता पूर्वक उठा कर, अपने कार्य को सम्पन्न करती है और हमें प्रेरणा देती है कि हम मनुष्य को भी इसी दृणसंकल्प से अपने कार्यों को पूर्ण करना है, चाहे कितनी भी चुनौतियां हो। हमें अपने लक्ष्य से भटकना नही है। आप अपने सुझाव हमसे शेयर करिये और बताइये कि आपको Poem on Ant in Hindi कैसी लगी, अपने कमेंट के माध्यम से।
हमसे लेटेस्ट कविताओं की नोटिफिकेशन्स प्राप्त करने के लिए, हमारे फेसबुक पेज और इंस्टाग्राम, से जुड़े। सबसे ऊपर दिए हुए सोशल बटन को दबाए और अभी फॉलो करे।

Hope you find this article useful, if you like this post, then you can share it on social media, by using social media icons provided on this website. You can also follow us on Facebook for getting notifications of latest poems.
Edited by- Somil Agarwal

1 comment:

Most Recently Published

बच्चों के लिए कविताएँ | Poem for Kids in Hindi

बड़े प्यारे होते है बच्चे, ईश्वर का वरदान होते है बच्चे। किसे पसंद नही होते, बच्चे। बच्चे न सिर्फ हमारा बल्कि हमारे देश का भी भविष्य होते है...