Tuesday, 29 September 2020

डॉक्टर पर कविताएँ | Poem on Doctors in Hindi

दोस्तों, हम सभी जानते है कि डॉक्टर हमारे जीवन में बहुत ही महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते है। हम देख रहे है कि नित्य हमें भयंकर बीमारियों का सामना करना पड़ता है ऐसे समय में हमें केवल डॉक्टर ही याद आते है। डॉक्टर हमारा जीवन बचाते है। वो हमारे स्वास्थ्य की रक्षा करते है इसलिए उनका योगदान अद्वितीय है। लोग इन्हें ईश्वर के तुल्य मानते है क्योंकि वो हमें जीवन दान देते है। डॉक्टर अपने स्वास्थ्य की परवाह न करते हुए हम सबकी रक्षा करते है। वो अपने पूरे जीवन में सुख और चैन का त्याग करते है, ताकि हम सब अपने अच्छे स्वास्थ का लाभ उठाते रहें। वर्तमान युग में ये डॉक्टर ही असली योद्धा है क्योंकि अपनी जान की परवाह किये बिना ये अपने कर्तव्य पथ पर अग्रसर है। इनका कार्य सराहनीय है। हम अपने देश के इन सभी वीर योद्धाओं को नमन करते है।

आज हम आपके समक्ष शेयर करते है कुछ डॉक्टर पर कविताएँ, ताकि आप सब इनकी महत्वता को समझ सकें और इनका आदर हमेशा करते रहे। हमने यह कविताएँ बहुत ही आसान शब्दों में लिखी है जिससे कि बच्चे, बड़े व अन्य पाठक इनको आसानी से समझ सकें।

डॉक्टर पर कविताएँ | Poem on Doctors in Hindi


Poem on Doctors in Hindi, Doctor Par Kavita, डॉक्टर पर कविताएँ
Poem on Doctors in Hindi

Poem on Doctors in Hindi


डॉक्टर अंकल

डॉक्टर अंकल कितने प्यारे,
लगते वो हम सबको न्यारे,

जब कोई आये बीमारी,
वो ही हमारा स्वास्थ्य सुधारे।

कभी देते वो छोटी से टेबलेट,
कभी वो बड़े इंजेक्शन लगाए,

फिर भी सभी लोगों को तो,
डॉक्टर अंकल खूब है भाए।

जब भी है वो मिलते,
स्वास्थ्य के हमको लाभ बताए,

निरोगी जीवन के वो तो,
जाने कितने राज बताए।

डॉक्टर अंकल जी तो हरदम,
हमे पते की बात बताए,

स्वास्थ्य ही धन सच्चा है,
हर पल वो हमको समझाए।
- निधि अग्रवाल

डॉक्टर पर कविता


डॉक्टर ईश्वर का अवतार

रखते हमारा ख्याल,
और करते है बीमारियों का उपचार,

ये डॉक्टर ही होते है धरती पर,
ईश्वर का अवतार।

होती है हमको कोई परेशानी,
या आ जाता है बुखार,

फिर सबसे पहले हमको,
रहता है बस डॉक्टर का इंतजार।

डॉक्टर के पास ही,
होता है हमारा इलाज,

डॉक्टर की दवाई से,
हो जाती सारी बीमारियां खल्लास।

अगर डॉक्टर न होते,
तो कहाँ मिलता हमको आराम,

मर जाते हम तो तड़प-तड़प के,
हो जाता काम हमारा तमाम।
- Nidhi Agarwal

Doctors Par Kavita


डॉक्टर असली वारियर्स

कोरोना के इस युग में दोस्तों,
डॉक्टर है असली वारियर्स,
खेल कर अपनी जान पर,
बन गए है सुपीरियर।

करने मानव की सुरक्षा,
है नींद उन्होंने त्यागी,
देकर नवजीवन सबको,
काम किया बड़ा भागी।

अपना चैन और आराम खोकर,
किया सबका सेवा सत्कार,
इनके ही प्रयासों से ही,
रुक सका कुछ हद तक कोरोना का विकास।

भूल गए ये अपनी खुशियाँ,
लाने को सबके जीवन में हास,
कष्ट सहे कितने इन्होंने,
पर नही हुए उदास।

अगर ये डॉक्टर न होते,
तो हम हो जाते परेशान,
ये न होते सोचो फिर कैसे,
 मिलता हम सबको जीवनदान।
- निधि अग्रवाल

हमें आशा है कि आप सबको यह Poem on Doctors in Hindi अवश्य पसंद आयी होंगी। यदि अच्छी लगी हो तो इन्हें शेयर अवश्य करदें। आपका एक शेयर हमें मोटीवेट करेगा और लोगों को करने में सहायता प्रदान करेगा।

No comments:

Post a comment

Most Recently Published

दशहरा त्यौहार पर कविताएँ | Poem on Dussehra in Hindi

दोस्तों, हमारा देश भारत त्यौहारों का देश है। सभी त्यौहारों में दशहरे का त्यौहार पूरे हर्ष और उल्लास से मनाया जाता है। ये त्यौहार असत्य पर सत...