Breaking

Thursday, 20 June 2019

पिता पर कविताएँ | Poem on Father in Hindi

हमारे जीवन रुपी पतंग की डोर हमारे माता-पिता के ही हाथ में होती है, जिसमें माँ और पिता, दोनों की अहम भूमिका रहती है। जैसे एक माँ जीवन के हर मोड़ पर अपने बच्चों के साथ कदम से कदम मिलाकर चलती है, वैसे एक समझदार पिता भी अपने कर्तव्यों से कभी मुँह नही मोड़ता। अपने कर्तव्यों को पूर्ण करने हेतु, वो जी-जान से महनत करता है और अपने बच्चों को दो वक्त की रोटी देता है। एक पिता ही हमेशा अपने बच्चों के लिए शक्ति और समर्थन के स्तंभ के रूप में कार्य करता है, अपने बच्चों का मार्गदर्शन करता है, उनको प्यार करता है और उनकी परवाह करता है। ईश्वर ने पिता के रूप में हम सबको बहुमूल्य उपहार दिया है।
एक पिता का अद्भुत वर्णन करने हेतु, आज हम उपस्थित हुए है। हम आपके समक्ष पिता पर कुछ कविताएँ Poem on Father in Hindi शेयर करते है।

पिता पर कविताएँ | Poem on Father in Hindi


Poem on Father in Hindi, Poem on Daddy in Hindi, My Father Hindi Poem, Poem on Father's Day in Hindi, पिता पर कविताएँ
Poem on Father in Hindi

Poem on Father in Hindi- पिता पर कविता


नमन है मेरे पिता को

पापा मेरे जीवन का हौंसला हैं,
मेरे सपनों की उड़ान है।

उनसे ही मिली मुझे,
मेरे पंखों को जान है।

वो ही मेरी खुशियां,
और आशाओं का आसमान है।

मेरे जीवन को सवारने वाले,
वो मेरी पहचान हैं।

संघर्षों से लड़ते हुए भी रखा,
उन्होंने सबका मान है।

ह्रदय में उनके न कोई क्लेश,
न किसी का अपमान है।

नमन है ऐसे पिता को,
उनके लिए मेरे हृदय में बस सम्मान है।
- निधि अग्रवाल
----------

Beautiful Poem on Father in Hindi


पिता परिवार की जिम्मेदारी

परिवार की जिम्मेदारी है पिता,
दुःखो को रोकने वाली चाहरदीवारी है पिता।

खुशी और मुस्कान से भरी पिटारी है पिता,
उम्मीदों के फूलों की क्यारी है पिता।

तूफानों से लड़ जाए वो प्रहरी है पिता,
मुश्किलों में भी खुश रहने वाला लहरी है पिता।

कभी न टूटे वो लड़ी है पिता,
परिवार को जोड़ने वाली कड़ी है पिता।

अपने बच्चों के लिए जागीर है पिता,
संघर्षो के पथ पर चलने वाला राहगीर है पिता।

त्याग और प्रेम की मूर्ति है पिता ,
जिंदगी की हर जरूरत की पूर्ति है पिता।
- निधि अग्रवाल
----------

Poem on Father's Day in Hindi


पिता परिवार की धुरी

परिवार की धुरी का एक पहिया है पिता,
जो कभी रुकता नही है।

रहता हमेशा चलायमान,
जो कभी थकता नही है।

कंधे पर जिम्मेदारियां लाख होने पर भी,
माथे पर शिकन कभी रखता नही है।

दुःख कितने भी हो उसपर,
पर उनको कभी गिनता नही है।

संतान की खुशियों के खातिर,
आंखों को कभी नम करता नही है।

पिता वो स्तंभ है,
जो संकट की आँधियों में कभी गिरता नही है।

रह हिमालय सा अडिग,
सारे तूफानों से लड़ता वही है।
पिता वो धुरी है जो कभी रुकता नही है।
- निधि अग्रवाल
----------

Short Poem on Daddy in Hindi


मेरे पिता मेरी खुशियाँ

डगमग करते कदमों को,
तुमने चलना सिखलाया।
ऊँगली थाम मेरी तुमने,
आगे बढ़ना सिखलाया।
कभी थाम अपनी बाहों में,
मुझको झूला झूलाया।
मेरी नादान बातों को,
तुमने कभी न झुठलाया।
रातें कहानियों वाली देकर,
मेरा मन हरदम बहलाया।
मेरी ख़ुशियों के खातिर तुमने,
जीवन अपना कुर्बान किया।
पाकर तुम जैसे पापा को,
जीवन मेरा धन्य हुआ।
- निधि अग्रवाल
----------

Poem on My Father in Hindi


मेरे पापा

पापा आपकी छाँव तले,
मेरा बचपन पला।
बनकर मेरे साथी हमेशा,
आपका साया मेरे साथ चला।

निराशा के बादल,
कभी नही छाए जीवन में मेरे।
नही देखे मैंने जीवन में कभी,
उदासी के अंधेरे।

क्योंकि आप देते रहे हमेशा उजाला,
मेरे जीवन में बनके दीया।
जीवन कभी हार कभी जीत है,
ये आपकी दी हुई सीख है।

जीवन के पथ पर यूँ मुझे भी बढ़ते जाना है,
मिला जो कर्तव्य वो निभाना है।
क्योंकि आपका ही मुझे ये आदर्श मिला है,
मेरा जीवन तो आपकी छाँव में पला है,
ये जीवन भी आपसे ही मिला है।
- निधि अग्रवाल
----------

Hindi Poem on My Father


पिता का कठिन परिश्रम

जिम्मेदारियों के तले एक पिता,
पूरा जीवन गुजार देता है।
स्वयं कठिनाईयों को सहकर,
अपनी संतान का जीवन संवार देता है।

अपनी संतान का स्वप्न पूरा करने को,
स्वयं की इच्छाओं त्याग देता है।
करके कठिन परिश्रम वो,
नई आंखों को ख़्वाब देता है।

कभी हार नही मानता वो,
किस्मत से भी लड़ जाता है।
अपनी संतान के लिए वो,
ख़ुशियों का घरौंदा सजाता है।

अपनों की ख़ुशियों के लिए,
अपने आँसुओं को पी जाता है।
देखकर अपनी संतान की खुशियाँ,
जैसे वो जीवन का सारा सुख पा जाता है।

पिता वो रिश्तों का दरियाँ है,
जिसमें सारा समंदर समा जाता है।
- निधि अग्रवाल

Suggested Topics For You :

पिता पूरे परिवार का स्तम्भ होता है, वो बिना किसी लोभ किए अपने बच्चों को पालता है, बड़ा करता है, पढ़ाता है और उनको एक कामयाब इंसान बनाता है। वह यह तपस्या निःस्वार्थ भाव से पूरा जीवन करता है। जिस प्रकार से एक माँ अपनी ज़िम्मेदारी और अपने बच्चों के प्रति हर वो फ़र्ज़ को पूरा करती है, जो कि उसके बच्चे को आवश्यकता होती है। उसी प्रकार एक पिता अपने सारे कर्तव्यों को भली भांति समझता है और उसे पूर्ण रूप से निभाता है।
दोस्तों, हमें आशा है कि आपको यह पिता पर कविताएँ Poem on Father in Hindi जरूर पसंद आयी होंगी। अगर अच्छी लगी हो तो अपने पिता से जरूर साझा करें।

Hope you find this article useful, if you like these amazing poems, please share this post on Facebook, WhatsApp or on Twitter with your friends and parents, Yours one Share Motivates Us. Share this post using share buttons provided on this website. For more notifications of latest poems, please Follow Us on Facebook by using above Facebook Page Icon.
Edited by- Somil Agarwal

1 comment:

  1. Wow the poems are amazing they are in very understandable language so that we can easily understand them. .. ...

    ReplyDelete

Most Recently Published

बच्चों के लिए कविताएँ | Poem for Kids in Hindi

बड़े प्यारे होते है बच्चे, ईश्वर का वरदान होते है बच्चे। किसे पसंद नही होते, बच्चे। बच्चे न सिर्फ हमारा बल्कि हमारे देश का भी भविष्य होते है...